15 Bhagavad Gita Quotes in Sanskrit | गीता श्लोक

Bhagavad gita | भगवद गीता

अथ केन प्रयुक्तोऽयं पापं चरति पूरुषः ।
अनिच्छन्नपि वाष्र्णेय बलादिव नियोजितः । । ३६

Hindi translation:- अर्जुन भगवान श्री कृष्ण से पूछते हैं कि यह कौन है जो मुझसे पाप करा रहा है। मेरी तो इच्छा भी नहीं है, मुझे ऐसा लगता है कि बलपूर्वक मुझसे यह काम करवाया जा रहा है।

English translation:- Arjuna asks Lord Krishna who is this who is making me sin. I do not even wish, I feel that I am being forced to do this work.

भावार्थ:- यह अर्जुन का तात्पर्य है कि मनुष्य न चाहते हुए भी पाप कर्म के लिए प्रेरित क्यों होता है। ऐसा लगता है कि उसे बलपूर्वक उनमें लगाया जा रहा है। यह ऐसा क्यू होता और कैसे होता है तथा कोन करता है।

bhagavad gita quotes in sanskrit


काम एष क्रोध एष रजोगुणसमुद्भवः ।
महाशनो महापाप्मा विद्ध्येनमिह वैरिणम् ॥ ३७ ॥

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि मनुष्य से पाप करने वाल रजो गुड है। रजोगुड से काम उत्पन्न होता है जो बाद में क्रोध का रूप धारण करता है और जो इस संसार का पापी शत्रु है।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that, It is lust alone, which is born of contact with the mode of passion, and later transformed into anger. Know this as the sinful, all-devouring enemy in the world.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि रजो गुड के कारण काम, क्रोध उत्पन्न होता है और यही मनुष्य को पाप करने के लिए प्रेरित करता है। यह मनुष्य का सबसे बड़ा पापी शत्रु है।

RELATED –


आवृतं ज्ञानमेतेन ज्ञानिनो नित्यवैरिणा ।
कामरूपेण कौन्तेय दुष्परेणानलेन च ॥ ३९ ॥

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि यह मनुष्य के ज्ञान को ढक देता है और ज्ञानी लोगों का सबसे बड़ा शत्रु है। हे अर्जुन मनुष्य के अंदर काम के रूप में एक ऐसी अग्नि बनकर निवास करता है जो कभी बुझती नहीं।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that, The knowledge of even the most discerning gets covered by this perpetual enemy in the form of insatiable desire, which is never satisfied and burns like fire, O Arjuna

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि यहां ज्ञानी व्यक्ति के संपूर्ण ज्ञान को ढक देता है अर्थात नष्ट कर देता है। यह ज्ञानियों का सबसे बड़ा शत्रु है। हे कुन्ती पुत्र यह काम के रूप आता है और एक ऐसी अग्नि के रूप में रहता है जो कभी नष्ट नहीं होती


इन्द्रियाणि मनो बुद्धिरस्याधिष्ठानमुच्यते ।
एतैर्विमोहयत्येष ज्ञानमावृत्य देहिनम् ॥ ४० ॥

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि यह काम इंद्रिय मन बुद्धि में विद्यमान रह कर ज्ञान को अपने वश में करके ज्ञान उसको नष्ट कर कर देता है।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that The senses, mind, and intellect are said to be breeding grounds of desire. Through them, it clouds one’s knowledge and deludes the embodied soul.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि यह काम का निवास स्थान इंद्रियों, मन तथा बुद्धि है अर्थात काम हमेशा इंद्रियों, मन तथा बुद्धि में विद्यमान रहता है। इसके द्वारा यह काम जीवात्मा के वास्तविक ज्ञान को मोहित कर ज्ञान को ढक देता है अर्थात नष्ट कर देता है।


तस्मात्त्वमिन्द्रियाण्यादौ नियम्य भरतर्षभ ।
पाप्मानं प्रजहि ह्येनं ज्ञानविज्ञाननाशनम् ॥ ४१ ॥

Hindi translation:- इसलिए हे अर्जुन, तुम काम को वश में करने के लिए इंद्रियों से शुरुआत करो। क्योंकि यह काम तुमसे इतने पाप करवाएगा कि तुम्हारी ज्ञान विज्ञान बुद्धि नष्ट हो जाएगी।

English translation:- Therefore O Arjuna, in the very beginning bring the senses under control and slay this enemy called desire, which is the embodiment of sin and destroys knowledge and realization.

भावार्थ:- इसलिए हे अर्जुन! प्रारंभ में ही इंद्रियों को वश में करके इस पाप के महान काम का दमन करो क्योंकि अगर तुमने ऐसा नहीं करा तो यह तुम्हारी पूरी बुद्धि को नष्ट कर देगा और ज्ञान तथा आत्म साक्षात्कार के इस विनाश करता का वध करो।


श्रुतिविप्रतिपन्ना ते यदा स्थास्यति निश्चला ।
समाधावचला बुद्धिस्तदा योगमवाप्स्यसि ॥ 2 .53 ॥

Hindi translation:- जब तुम्हारा मन वैदिक ज्ञान के कर्म फलों से प्रभावित ना हो और वह आत्मा साक्षात्कार की समाधि में स्थिर हो जाए, तब तुम्हें दिव्य चेतना प्राप्त हो जाएगी।

English translation:- When your intellect ceases to be allured by the fruitive sections of the Vedas and remains steadfast in divine consciousness, you will then attain the state of perfect Yog.

भावार्थ:- जितने लोग होते हैं उतने किस्म की बातें होती है और जितनी बातें होती है उतने तरीके से बुद्धि सोचती है। जब दिमाग (बुद्धि) स्थिर होकर एक जगह या परमात्मा में लग जाती है तो उसे ही योग कहते हैं। बुद्धि का स्तर हो जाना ही एकाग्रता कहलाता है। स्थिर होकर एकाग्रता से कुछ करने को समाधि की स्थिति भी कहते हैं।


नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः । । २३ ॥

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि आत्मा न तो कभी भी या किसी भी प्रकार के शस्त्र द्वारा खण्ड-खण्ड नहीं किया जा सकता है, आत्मा को न अग्नि द्वारा जलाया जा सकता है, न जल द्वारा भिगोया या जा सकता है, न वायु द्वारा सुखाया जा सकता है।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that the soul can never be Chopped by any or any kind of weapon, nor can it be burnt. Water cannot wet it nor can air dry it.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि शरीर में रहने वाले देह का कभी भी वध नहीं किया जा सकता। वह अजन्मा ,नित्य, शाश्वत, तथा पुरातन है। इस लिए उसे इसी भी बात की चिंता नहीं करनी चाहिए।


यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ।
अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥ 7
परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥ 8 ॥

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि जब भी और जहाँ भी धर्म की ग्लानि, पतन, हानि होती है और अधर्म की प्रधानता, वृद्धि होने लगती है, तब तब मैं धर्म की वृद्धि के लिए अवतार लेता हूँ। भक्तों का उद्धार करने, दुष्टों का विनाश करने तथा धर्म की फिर से स्थापना करने के लिए हर युग में प्रकट होता रहूंगा।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that whenever and wherever there is defamation, degradation, loss of religion and the primacy of unrighteousness starts to increase, then I incarnate for the growth of religion. I will continue to appear in every age to save the devotees, destroy the wicked and re-establish the religion.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मनुष्य को हमेशा धर्म का पालन करते रहना चाहिए और जब जब धर्म की हानी या धर्म का पालन नहीं होगा। सज्जन पुरुषों के कल्याण के लिए और दुष्कर्मियों के विनाश के लिए और धर्म की स्थापना के लिए मैं श्रीकृष्ण युगों – युगों से प्रत्येक युग में जन्म लेता रहूंगा।


Geeta Shlok on Karma

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन ।
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि ॥ 47

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि कर्म पर ही तुम्हारा अधिकार है लेकिन कर्म के फलों में कभी नहीं इसलिए कर्म को फल के लिए मत करो और न ही कर्म न करने में कभी अशक्त हो।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that You have a right to perform your prescribed duties, but you are not entitled to the fruits of your actions. Never consider yourself to be the cause of the results of your activities, nor be attached to inaction.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि हर मनुष्य के हाथ में कर्म करना तो है। पर कर्म का फल ले पाना मनुष्य के हाथ में नहीं है। इस लिए मनुष्य को कर्म करते रहना चाहिए लेकिन फल की चिंता न करते हुए।


ध्यायतो विषयान्पुंसः सङ्गस्तेषूपजायते ।
सङ्गात्संजायते कामः कामात्क्रोधोऽभिजायते

Hindi translation:- भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि विषयों के बारे में सोचते रहने से मनुष्य की उनमें आसक्ति उत्पन्न हो जाती है । इससे मनुष्य में काम यानी इच्छा उत्पन्न होती है और काम से क्रोध की उत्पत्ति होती है।

English translation:- Lord Shri Krishna tells Arjuna that While contemplating on the objects of the senses, one develops attachment to them. Attachment leads to desire, and from desire arises anger.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि एक मनुष्य में काम क्रोध आदि की उत्पत्ति कैसे होती। सर्वप्रथम विषयों के बारे में बार-बार सोचने देखने के कारण मनुष्य में उसको पाने की उसे प्राप्त करने की इच्छा उत्पन्न होती। इच्छा के कारण काम और काम के कारण क्रोध उत्पन्न होता है। इसलिए मनुष्य को किसी भी विषयों के प्रति ध्यान नहीं देना चाहिए। बस एकमात्र ईश्वर का ध्यान करना चाहिए।


क्रोधाद्भवति संमोह : संमोहात्स्मृतिविभ्रमः ।
स्मृतिभ्रंशानुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति

Hindi translation:- क्रोध से पूर्ण मोह (अहंकार) उत्पन्न होता है। अहंकार से स्मरण शक्ति कम होने लगती है। तो बुद्धि नष्ट हो जाती है और बुद्धि नष्ट होने पर मनुष्य का अध: पतन हो जाता है।

English translation:- Wrath leads to complete attachment (ego). The ego begins to lose its memory power. So the intellect is destroyed and the human being degrades when the intellect is destroyed.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मनुष्य किस तरह अपना नाश करता हैं। मनुष्य की मती क्रोध के कारण मारी जाती है यानी मूढ़ हो जाती है जिससे स्मृति भ्रमित हो जाती है। स्मृति – भ्रम हो जाने से मनुष्य की बुद्धि नष्ट हो जाती है और बुद्धि का नाश हो जाने पर मनुष्य खुद अपना ही का नाश कर बैठता है।


सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज ।
अहं त्वां सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुचः ॥

Hindi translation:- सभी प्रकार की धर्मों का त्याग करो और मेरी शरण में आओ मैं सभी प्रकार के पापों से तुम्हारा उद्धार कर दूंगा। मत घबराओ!

English translation:- Renounce all kinds of religions and come to my refuge, I will save you from all kinds of sins. Don’t panic!

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मनुष्य को हर प्रकार के आश्रय को त्याग कर केवल मेरी शरण में आना चाहिए क्यू की भगवान श्री कृष्ण शरण में जाकर ही उस का उद्धार हो पाएगा और सभी पापों से मुक्ति मिल जाएगी, इसलिए शोक मत करो।


Bhagwat Geeta Shlok on Life

जन्म कर्म च मे दिव्यमेवं यो वेत्ति तत्त्वतः ।
त्यक्त्वा देहं पुनर्जन्म नैति मामेति सोऽर्जुन ॥ ९ ॥

Hindi translation:- जो मनुष्य मेरे आविर्भाव मेरे दिव्य प्रकृति को जनता है, वह इस शरीर को छोड़ने पर फिर जन्म को प्राप्त नहीं होता, अपितु मेरे धाम को प्राप्त होता है।

English translation:- Those who understand the divine nature of my birth and activities, O Arjun, upon leaving the body, do not have to take birth again, but come to my eternal abode.

भावार्थ:- यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मेरे कर्म दिव्य निर्मल और अलौकिक हैं – इस प्रकार जो मनुष्य तत्त्व को जान लेता है, वह शरीर को त्यागकर इस भौतिक संसार में पुनः जन्म नहीं लेता, किन्तु मुझे ही प्राप्त होता है। ‘जो मनुष्य मुझे जान लेता है वह जन्म मृत्यु के चक्र से मुक्त हो जाता है।


श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर : संयतेन्द्रियः ।
ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति

Hindi translation:- जो श्रद्धा रखने वाले मनुष्य ज्ञान प्राप्त करता है और जिसने इंद्रियों को वश में कर लिया है, वह इस ज्ञान को प्राप्त करने का अधिकारी है और इसे प्राप्त करते ही वह तुरंत आध्यात्मिक शांति को प्राप्त होता है।

English translation:- A person who attains reverence and who has subdued the senses is entitled to receive this knowledge and upon attaining it, he immediately attains spiritual peace.

भावार्थ:- श्रद्धा रखने वाले मनुष्य, अपनी इन्द्रियों पर संयम रखने वाले मनुष्य, साधनपारायण हो अपनी तत्परता से ज्ञान प्राप्त कते हैं, फिर ज्ञान मिल जाने पर जल्द ही परम – शान्ति प्राप्त होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *